Religion, Philosophy and the Heart

Join my mailing list

The sky blue, the sun bright
To every soul speaks this sight
The gusty wind adds to the delight
And in the air dances the kite
The ravens meeting on the branch above
The trees are singing if you be quiet
Lovely is the good world to be
If only man learns to truly see

M. Sultan
24-01-2020
baqarah

2- सूरह बक़रह

यह सूरह ‘अलिफ़, लाम, मीम’ है। यह ईश्वरीय ग्रंथ है, इसके ईश्वरीय ग्रंथ होने में कोई संदेह नहीं। मार्गदर्शन है […]

Faatiha

1- सूरह फ़ातिहा

आभार परमेश्वर ही के लिए है, समस्त लोकों का प्रभु, सर्वथा दया, जिसकी कृपा शाश्वत है, जो न्याय के दिन […]