Religion, Philosophy and the Heart

1- सूरह फ़ातिहा

परमेश्वर के नाम से जो सर्वथा दया है, जिसकी कृपा शाश्वत है। 

आभार परमेश्वर ही के लिए है, समस्त लोकों का प्रभु, सर्वथा दया, जिसकी कृपा शाश्वत है, जो न्याय के दिन का स्वामी है। (1-3)

(प्रभु) हम तेरी ही उपासना करते हैं और तुझ ही से सहायता चाहते हैं। हमें सीधे मार्ग पर चला। उन लोगों का मार्ग जिन पर तूने उपकार किया, जो न तेरे क्रोध के भागी हुए हैं, न मार्ग से भटके हैं। (4-6)


उर्दू अनुवाद: जावेद अहमद गामिदी
हिन्दी रूपान्तरण: मुश्फ़िक़ सुल्तान

baqarah

2- सूरह बक़रह

यह सूरह ‘अलिफ़, लाम, मीम’ है। यह ईश्वरीय ग्रंथ है, इसके ईश्वरीय ग्रंथ होने में कोई संदेह नहीं। मार्गदर्शन है इन परमेश्वर से डरने वालों के लिए जो बिन देखे मान रहे हैं और नमाज़ की स्थापना कर रहे हैं और जो कुछ हमने इन्हें दिया है, उसमें से (हमारे मार्ग में) दान कर रहे हैं। और जो उसे भी मान रहे हैं जो तुम्हारी ओर उतारा गया और उसे भी जो तुम से पूर्व उतारा गया और वे परलोक पर विश्वास रखते हैं। यही अपने प्रभु के मार्ग पर हैं और यही हैं जो सफलता पाने वाले हैं। (1-5)

%d bloggers like this: